छोटे भाई के साथ सेक्स

हेलो दोस्तों मेरा नाम आंचल हे और में अलाहाबाद की रहने वाली हु. में अपने फेमिली के साथ रहती हु. और यह कहानी उस समय की हे जब में अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई कर रही थी. उस वक्त मेरी एज १९ साल थी और यह स्टोरी ४ साल पहले की हे. में आपको अपने फेमिली के बारे में बताना तो भूल ही गयी. मेरी फेमिली में टोटल चार लोग हे में, मेरी माँ, मेरी बहन और मेरे पापा.

मेरे पापा रेलवे में टीसी हे और वह अक्सर काम की वजह से घर से बहार रहते हे, मेरी माँ हॉउसवाइफ हे और मेरी सीस ९th में पढ़ती हे. में एक गोरी और देसी टाइप की लड़की हु. मेरा फिगर का साइज़ ३४-२८-३४ हे. कोई भी लड़का मुझे देखता हे तो वो वह मुझे बस देखता ही रह जाता हे.

हमारे घर के सामने हमारे ताऊजी का घर हे. उनका एक लड़का और एक लड़की हे. उनके लड़के का नाम सुमित हे और वह अभी १२th में पढता हे. और उसकी उमर उस वक्त १८ साल थी और वह मुझे दीदी बोलता था.

पहले उसका और मेरा एक दुसरे के लिए कोई भी आकर्षण नहीं था लेकिन एक दिन हम दोनों के साथ एक घटना घटी. एक बार मेरे घर पे कोई नही था. पापा डयूटी पर गये हुए थे और मेरी माँ मंदिर में गई हुई थी, में घर में अकेली बेठ के बोर हो रही थी.

तो मैने सोचा की चलो आज नेट पे कोई मूवी देख लेते हे लेकिन मेरा मुड फिर पोर्न वीडियो देखने का करने लगा और में पोर्न वीडियो देखने लगी. जिसमे एक गंजा सा आदमी एक गोरी लड़की को मुह में चोदता हे और फिर उसके बाद उसकी चूत भी मारने लगता हे.

यह सब देख के में भी अब गर्म हो गयी थी और मैने भी अपनी सलवार खोल कर अपनी चूत में उंगली करने लगी. में अभी पूरी वर्जिन थी और कुछ देर के बाद पानी निकलने लगा और में शांत हो गयी. और अपना फोन बंद कर दिया तभी मैने पीछे देखा तो मेरे निचे की जमींन खिसक गयी और मैने देखा की मेरे ताउजी के लड़के ने मुझे यह सब करते हुए देख लिया था और में रोने लगी.

तभी मेरा कजिन मेरे पास आया और मुजे चुप होने को कहा और कहने लगा की क्यों रो रही हो तू मत रो, इस उमर में ये सब होता रहता हे और ये तो हर लड़की करती हे, और मुझे तू यह करती बहोत ही अच्छी लग रही थी.

मैने अपने भाई से कहा की इस बारे में प्लीज़ किसी को कुछ नहीं बताना नहीं तो में कही की नहीं रहूंगी. तो मेरे भाई ने बोला की तू टेंशन मत ले में किसी को भी नही बताऊंगा, लेकिन एक शर्त पे, तो मैने बोला की क्या शर्त हे भाई?

सुमित : तुजे मेरे साथ एक बार सेक्स करन होगा.

में : क्या? भाई पागल हो गये हो क्या?

सुमित : में पागल नही हु में तेरे से प्यार करता हु में तेरे साथ सेक्स करना चाहता हु.

में : ये क्या बोल रहा हे तू? तुजे पता भी हे की तू किस के साथ बात कर रहा हे? में बहन हु तेरी.

में : लेकिन हम भाई बहन हे और ऐसा नहीं हो सकता.

सुमित : भाई बहन हे तो क्या हुआ हम सब से पहले इंसान हे और हमारा भी मन करता हे सेक्स करने का.

में : यार लेकिन अगर किसी को पता चल गया तो हमारी बहोत बदनामी होगी.

सुमित : यह बात हमारे सिवाय किसी को भी नहीं पता चलेगी. प्लीज़, दीदी मान जाओ ना आज तक मैने कभी सेक्स नहीं किया हे. सेक्स तो दूर की बात हे मैने तो अभी तक किसी लड़की को कभी नंगा भी नहीं देखा हे.

में : सेक्स तो मैने भी नहीं किया हे लेकिन इस में बहोत रिस्क हे ना?

सुमित : प्लीज़ दीदी प्लीज़ प्लीज़ प्लीज़ मान जाओ ना.

फिर मैने बोला की चल ठीक हे और इतना सुनते ही वह मेरे ऊपर पागलो की तरह टूट पड़ा और उसने मुझे मेरे बेड पर गिरा कर मुझे खूब जोर से किस करता रहा. और में भी उसे पूरा साथ दे रही थी. उसने किस करते करते मेरे सूट के ऊपर से ही मेरे बूब्स दबाने चालू कर दिए और बहोत तेजी से दबाये जा रहा था. और इसी बिच में भी उसके लंड को उस्की पेंट के ऊपर से मसल रही थी.

१५ मिनिट तक हमारी लगातार किसिंग चली और अब उसने अपना पेंट उतार दिया और मैने भी अपना सलवार और सूट उतार दिया फिर वह मेरी ब्रा के ऊपर से मेरे बूब्स को दबा रहा था और मेरी पेंटी में भी हाथ डाल कर मेरी चूत सहला रहा था. उसने जेसे ही मेरी चूत को छुआ में तो जेसे सिहर सी गई. और फिर कुछ देर बाद मैने भी अपनी ब्रा और पेंटी निकाल दी.

ब्रा निकलने के बाद तो सुमित एकदम से शोकड हो गया और उसने बोला वाव दी आपके बूब्स तो कितने सॉफ्ट और गोर हे और वह मेरे बूब्स को दबाता तो कभी उनको चुसता था और सक करता. फिर कुछ देर बाद उसने कहा की चलो 69 पोजीशन में हम एक दुसरे की चाटते हे.

मैने मना कर दिया लेकिन उसके काफी कहने के बाद में मान गयी, और हा कर दिया और वह मेरी चूत को चाट रहा था और में उसके लंड को चूस रही थी. मैने उसके लंड को चूस चूस कर कडक कर दिया और वह मेरी चूत को ऐसे चाट रहा था जेसे की वह अभी मेरी चूत को खा जायेगा. उसके बाद में जड़ गई उसके मुह में और उसने मेरा सारा पानी भी पि लिया, फिर कुछ देर बाद उसका भी वीर्य निकल गया और में भी उसे पूरा निगल गयी.

अब मैने कहा की प्लीज़ चोद दो मुझे बना लो अपनी रखेल, फाड़ दो आज मेरी चूत को आज से में तुम्हारी हु और आगे भी तुम्हारी ही रहूंगी. फिर उसने अपना ७ इंच लंड मेरी चूत के ऊपर लगाया और ऊपर से रगड़ने लगा. फीर में मछली की तरह तडपने लगी और सेक्सी आवाजो में बोलने लगी की प्लीज़ भैया मुझे चोद दो नहीं तो में मर जाउंगी. प्लीज़ फक मी माय स्वीट हार्ट मेरी जान आज तो मुझे चोद दे. अपनी बहन को बना ले अपनी रखेल. चोद बहन के लोडे चोद मुझे बहनचोद और इतना सुनते ही उसने अपने लंड को मेरे चूत पे रख कर एक ज़ोरदार ज़टका मारा और उसका लंड का ऊपर का हिसा मेरी चूत में जा चूका था.

में चिल्लाने लगी निकालो इसे मुझे बहोत दर्द हो रहा हे, प्लीज़ निकालो और इस बिच उसने एक और ज़टका मारा और इस बार उसका पूरा लंड मेरी चूत के अंदर था और मेरी चूत से खून निकलने लगा और मेरी आंख से आंसू निकलने लगे. फिर कुछ देर तक रुक कर वह मुझे किस करने लगा और कुछ देर बाद मुझे हलके हल्के ज़टके मारने लगा.

अब मेरा भी दर्द ख़त्म हो गया था और में अब मजे से चुदवा रही थी, और अब वह भी तेज धक्के दे रहा था और में अहः हहह मम्म हाहाह उम्म्म अह्ह्ह अह्ह्ह ममं करके आवाजे निकलने लगी थी और मुजे पेलता जा रहा था.

इसी बिच में दो बार जड गयी थी और फिर वह भी जड़ ने वाला था. फिर में और वह एक साथ ही जड़ गए. उसने मुझे करीब २० मिनिट तक चोदा और मेरी चूत का भोसडा बना दिया.

और फिर हम एक दुसरे के ऊपर ही सो गयो और फिर उसने मेरी गांड भी मारी. तब से लेकर आज तक वह मुझे बहोत बार चोद चूका था और बिच में तो में एक बार प्रेग्नंट भी हो गयी थी लेकिन मैने चुपके से एक डोक्टर के पास जाकर केप्स्युल कहा ली और अब भी हम मजे से चुदाई करते हे.

Published by

hindisexstories

Hindi Sex Stories