दोस्त की बहन बोली हरामी अब तो बस कर

दोस्त की बहन बोली हरामी अब तो बस कर

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम विशाल है. ये घटना तब की है जब में करीब 19 साल का था. वैसे मेरी उम्र कोई ज्यादा नहीं है. Indian Sex Hindi sex Chudai Antarvasna Kamukta में 19 साल का ही हूँ. हाईट 6 फुट और मुझे जिम का शौक है और सबसे बड़ी बात मेरे लंड का साईज 7 इंच है. अब में आपको बोर ना करते हुए सीधा कहानी पर आता हूँ. ये बात तब की है जब में अपने दोस्त के घर था और उसकी बहन मुझे देखती रहती थी. ये बात मुझे पता थी, लेकिन में ध्यान नहीं देता था, यार दोस्ती का जो मामला था. फिर वो दिन आया जिस दिन का में बड़ी बेसब्री से इंतज़ार कर रहा था, में अपने दोस्त के घर था. उस दिन में मेरा दोस्त और उसकी बहन और उसकी दादी ही घर पर थे और अचानक मेरे दोस्त और उसकी दादी को कहीं जाना पड़ गया और घर पर में और उसकी प्यारी और सेक्सी सी बहन रह गये.

सॉरी दोस्तों मैंने आपको उसकी बहन के बारे में तो बताया ही नहीं. वो 12वीं क्लास में है और उसका साईज 34-28-32 है. उसकी कमर बड़ी ही सेक्सी है और काफ़ी लड़कों की पसंद भी है, लेकिन क्या करें? वो तो बस मुझे ही प्यार करती है. अब आगे सुनो उन सबके जाने के बाद में अपने दोस्त के रूम में बैठा था और वो टी.वी देख रही थी.

फिर वो मेरे पास आई और बोली कि भैया पानी लाऊं, तो मैंने हाँ कह दी और बोला कि मुझे भैया मत कहा करो, अच्छा नहीं लगता. मेरे ये बोलने के बाद मैंने उसकी आँखो में एक चमक सी देखी, फिर वो चली तो गई, लेकिन उसके बाद जो वो बनकर आई क्या बताऊँ यारों? मेरा तो लंड जैसे कि कह रहा था कि इसे आज के आज अभी पकड़ लूँ और चोद दूँ, क्योंकि उसने मिनी स्कर्ट और सिर्फ़ ब्रा पहनी हुई थी.

फिर उसके बाद मैंने उससे कहा वाह क्या बात है? मैंने तो पानी लाने भेजा था और तू तो पानी के साथ बॉम्ब भी ले आई. फिर उसने कहा हट फ्लर्टी कहीं का. फिर उसने कहाँ मुझे गणित समझ में नहीं आ रही है तुम समझा दोंगे तो मैंने कहा हाँ लाओ. फिर वो आई और मेरे सामने बैठ गई. दोस्तों उसके बूब्स और चूचे देखकर मेरा लंड तो पहले ही खड़ा था और वो मेरी पेंट में से दिख भी रहा था.

फिर मैंने उसे सवाल समझाते-समझाते उसके हाथ पर अपना हाथ रख दिया और फिर वो भी मेरा साथ देने लगी और वो मेरे पास आ गई और बोली कि विशाल सवाल अच्छे से समझाओ ना. फिर मैंने कॉपी पेन छोड़ा और उसे किस करने लगा. अब वो भी मेरा साथ दे रही थी, लेकिन उसे किस करना नहीं आ रहा था, उसका पहली बार जो था. अब वो मुझे किस कर रही थी और में उसके बूब्स दबा रहा था.

फिर मैंने उसकी ब्रा फेंक दी और उसे पूरा नंगा कर दिया और उसके निपल और बूब्स को काटने लगा. अब वो अजीब सी आवाज़ें निकालने लगी. मुझे तो जैसे कि करंट सा लग रहा था. फिर मैंने उसके बूब्स के बाद उसकी चूत पर हाथ रखा. यारों वो क्या वर्जिन चूत थी? फिर मैंने चूत को जैसे ही मुँह में डाला तो साली ने पानी छोड़ दिया और मैंने सारा पी लिया.

फिर उसकी 5 मिनट तक चूत चाटने के बाद वो कंट्रोल से बाहर हो गई और मेरा सर अपनी चूत में धकेलने लगी और बार-बार कहने लगी कि मुझे चोदो प्लीज, लेकिन मुझे तो स्लो सेक्स पसंद है. फिर में उठा और अपना लंड उसके मुँह में डाल दिया, तो उसे खाँसी आने लगी और कहने लगी कि मुझसे ये नहीं होता. फिर मेरे बहुत बार कहने के बाद वो फिर से लंड को चाटने लगी और करीब 10 मिनट के बाद मैंने भी अपना पानी छोड़ दिया. फिर मैंने दुबारा उसे किस करने बाद अपना लंड खड़ा किया और उसकी चूत पर रख दिया तो वो डरने लगी और बोलने लगी कि विशाल दर्द होगा रहने दो, लेकिन में कहाँ मानने वाला था.

फिर मैंने मक्खन लिया और अपने लंड पर लगाया और उसकी चूत पर भी लगाया. फिर मैंने अपना लंड चूत पर टिकाया और एक शॉट मारा, लेकिन लंड स्लिप हो गया और 3-4 बार की कोशिश के बाद लंड थोड़ा सा अंदर गया. फिर क्या था? मैंने एक ज़ोर का शॉट मारा और मेरा लंड आधा अंदर चला गया. वो तो मानो चिल्लाने ही लग गई. अब उसकी आँखो से आँसू आ गये और ज़ोर-ज़ोर से कहने लगी कि बाहर निकालो इसे, लेकिन में कहाँ मानने वाला था.

फिर में उसके बूब्स दबाने लगा और चूसने भी लगा. फिर 2 मिनट के बाद मैंने कहा अब और इंतज़ार नहीं होता. फिर मैंने पूरा लंड अंदर डाल दिया और बस फिर क्या था? उसका वहीँ ड्रामा शुरू हो गया, लेकिन में कहाँ रुकने वाला था. फिर में अपना लंड अंदर बाहर करने लगा और वो भी अब थोड़ी देर के बाद शांत होने लगी और मेरा साथ देने लगी और हमने खूब जमकर सेक्स किया और हर एक स्टाइल भी ट्राई की. मैंने उस दिन उसकी खूब चुदाई की और करीब 20 मिनट के बाद मेरा पानी निकल गया और हम ऐसे ही लेट गये.

फिर 15 मिनट के बाद वो खड़ी हुई और मुझे चूमने लगी तो मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया और मैंने उससे कहा कि अब तेरी गांड की बारी है तो वो रोने लगी और गिड़गिडाने लगी, लेकिन मैंने उसे घोड़ी बनाया और अपने लंड पर मक्खन लगाकर उसे चोद डाला. अब साली ठीक से चल भी नहीं पा रही थी और वो खड़े होते ही गिर जाती, लेकिन मुझे तब कहाँ पता चलना था.

फिर मैंने अपनी स्टाइल चेंज की और उसकी दोनों टांगे उठाकर दुबारा अपना लंड उसकी गांड में डाला और 7-8 मिनट की चुदाई के बाद हम दोनों साथ में झड़ गये. दोस्तों डर तो तब लगा जब मैंने खून से भरी हुई चादर देखी और जब ये भी देखा कि उससे ठीक से चला नहीं जा रहा है. फिर मैंने उसके भाई को फोन किया और कहा कि कहाँ पर है? तो वो बोला 30-40 मिनट में आ रहा हूँ, बहनचोद मेरी तो माँ चुद गई. फिर मैंने फटाफट उसे समझाया और कहा ठीक से बर्ताव करना, लेकिन वो बुरी तरह डर गई थी.

फिर मैंने उसे काफ़ी समझाया और उसे हौसला दिया कि कुछ नहीं होगा. बस फिर वो क़िसी तरह मान गई और हमने फटाफट चादर चेंज की. लेकिन वो फिर भी लंगड़ा कर चल रही थी. मुझे बहुत डर लग रहा था. इतने में मेरा दोस्त और उसकी दादी भी आ गये. फिर जब हमने उन्हें देखा तो हमारी और फट गई. फिर तो हमने ऐसे बर्ताव किया कि जैसे कुछ हुआ ही ना हो. में वो 3-4 मिनट तो कभी नहीं भूल सकता. फिर उसने मुझे पानी दिया और उसके बाद दादी ने हमें खाना दिया और में अपने घर चला आया और मेरी स्वीट सी डार्लिंग भी सो गई. आज हम जब भी मिलते है तो सेक्स ज़रूर करते है.

Published by

hindisexstories

Hindi Sex Stories