सिनेमा में क्लासमेट की चुदाई की

हेलो मित्रानो मेरा नाम करन हे और मेरी उमर २० साल की हे. मेरे लंड का साइज़ ६ इंच हे और में पंजाब से हु. और में इस साईट पर नया हु तो मुझसे कोई गलती हो जाये तो प्लीज़ मुझे माफ़ कर देना. और अब में आज की स्टोरी पर आता हु. यह बात एप्रिल मंथ की हे और तब में एमबीए फर्स्ट इयर कर रहा था, और में रोज रोज मुठ मार मार कर एकदम तंग आ चूका था. मुझे सेक्स करने का बहोत मन करता था पर मुझे कोई लड़की नही मिल रही थी जिसे पकड के में उसके चूत में अपने लंड को शांत कर सकू.

फिर अमारे कोलेज में एक नयी लड़की ने एडमिशन लिया. उसके पापा का ट्रांसफर होने की वजह से वह हमारे कोलेज में आयी थी. और मित्रो वह एकदम सेक्स बोम्ब थी. कोई भी उसे एक बार देख ले वह उसे नंगी इमेजिन करने लगता. उसका नाम शुब्रा था और उसके फिगर का साइज़ ३४-३०-३६ था. और अब आप इमेजिन कर लो की कितनी सेक्सी होगी वह.. उसने bba फर्स्ट इयर में एडमिशन लिया हुआ था. सभी लड़के उसे पटाने के पीछे पड़े हुए थे पर वह किसी को भी भाव देती नही थी.

फिर हम थोड़े ही दिनों में दोस्त बन गये क्योंकि वह मेरे आगे वाले बेंच पर ही बेंच के ऊपर बेठती थी इसीलिए हम लोग बहोत जल्दी फ्रेंड बन गये थे और हमारे नंबर एक दुसरे के पास चले गए. में बोलने में बहोत हु अच्छा हु उसिलिये हमारी बात बहोत जल्दी आगे बढ़ने लगी थी और ऐसे ही कुछ दिन बीत गये और हम फ्रेंड से बेस्ट फ्रेंड बन गये. में पढने में अच्छा हु इसीलिए उसको जब भी जरूरत होती तब वह मेरे पास ही आती थी. और हम लोग जब भी फ्री होते तब खूब बाते भी करते थे. हम लोग साथ में ही लंच करते और पढ़ाई भी साथ में ही करते थे.

मैने उसे एक दिन पूछा की में तुम्हे एक सवाल पुछु तो उसने कहा की हां. मेंने उसे पूछा की क्या तुम पोर्न मुविस में इंटरेस्ट रखती हो .. थोड़ी देर चुप रहने के बाद वह बोली के उसमें तो कोण नहीं इंटरेस्ट रखता? में घर पर फ्री टाइम में देख लेती हु. उस के मुह से ये सुनके मुझे मेरा सपना पूरा होता नजर आ रहा था. फिर हम ऐसे ही सेक्स रिलेटेड बाते करते थे. फिर मैने ऐसे ही उसकी ब्रा का साइज़ पुछ लिया और उसने मेरे लंड का साइज़ पूछ लिया. और मेरे लंड का साइज़ सुनते ही उसके मुह पर एक हलकी सी स्माइल आ गयी थी.

फीर ऐसे ही फोन सेक्स चेट होने लगी. फिर कोलेज की तरफ से मूवी का प्लान बना. उसने पहले तो मना कर दिया पर वह उसके बाद रेडी हो गयी. मैने उसे पहले ही बोल दिया था की वह सलवार और कमीज पहन कर आये. और दोस्तों आप को क्या बताऊ क्या मस्त लग रही थी उसका रंग एकदम गोरा दूध सा सफ़ेद था और उस पर उसने काला सूट पहना हुआ था. सभी लड़के उसे ही देख रहे थे. फिर हम लोग सिनेमा ने पहुचे और वहा पर हमारे कोलेज के लिए पहले से ही एक होल बुक किया हुआ था. मेरी किस्मत अच्छी थी की उसको कोर्नर की सिट मिल गई और में उसके साथ जा के बेठ गया.

और फिर मूवी शुरू हो गयी और लाईट बंद हो गई. फिर मूवी को अभी आधा घंटा ही हुआ था, और मैने उसके हाथ पे हाथ रखा लेकिन उसने साइड कर दिया और वह मुझे आँखे दीखाने लगी. में कुछ बोल नहीं सकता था क्योंकि वहा पर हमारे कोलेज के लड़के बैठे हुए थे तो मेंने उसे मेसेज किया की सिर्फ हाथ पकड़ने दो .. और फिर उसने उसका हाथ वापिस वहां पर रख दिया और मैने उसका हाथ फटक से पकड लिया. . में तो गर्म करने में एकदम एक्सपर्ट था. . इसीलिए मुझे ज्यादा टाइम नहीं लगा और में उसके हाथ पे आपन हाथ घुमाने लगा.

वह थोडा रिलेक्स फिल कर रही थी .. लेकिन वह डर भी रही थी की कोई देख ना ले. फिर मैने उसकी गर्दन से पीछे ले जाकर एक हाथ उसके कंधे पर रख दिया और उसके कान के पीछे सहलाने लगा जिससे वह गरम होने लगी थी. . मैने एक हाथ से मेसेज कर के उसे बोला की थोडा सा आगे हो जाओ, उसने वैसा ही किया. और में पीठ के पीछे से हाथ ले जाकर उसके बूब्स को टच करने लगा. और आज तो मेरी किस्मत खुल गयी थी और वह पल याद करता हु हो आज भी मेरा लंड खड़ा हो जाता हे.

में उसे हल्का हल्का दबाने लगा. और वह तो पहले से ही गरम हो चुकी थी .. मैने हाथ निकाल के बहार जा कर पोपकोर्न ले आया क्योंकि उसके साथ ट्रे भी देते थे, तो मैने वह ट्रे उसके आगे रख ली.. वह अब समज चुकी थी की में क्या करने वाला हु .. उसने ट्रे थोड़ी ऊपर उठा के रखी और मैने धीरे से उसका नाडा खोल दिया. और उसने अपनी गांड ऊपर उठा ली और मैने उसकी सलवार को जांघ से निचे कर दिया. मैने जब पेंटी के ऊपर हाथ रखा तो वहा पर थोडा गिला पण मुझे महसूस होने लगा.

फिर मैने धीरे से उसकी चूत के लिप्स को खोला और निचे उंगली ले जाकर उसके अंदर डालने लगा था.. मैने जब उसके पैर की तरफ देखा तो उसने आखे बंद करली थी. और फीर में धीरे धीरे मेरी उंगली अंदर बहार अंदर बहार करने लगा था.. उसके आह हह्ह्ह अहह अम्म्म अहह मम्म अहह मम उम्म्म की आवज मुझे सुनाई दे रही थी. उसने मुझे धीरे से कहा की करन अब रुकना नहीं करते रहो.. और जोर से करो .. में भी अब समज चूका था की ये जड़ने वाली हे. में और तेज तेज करने लगा और थोड़ी देर में वह जड़ गई. उसके फेस पे स्माइल साफ साफ दिख रही थी और फिर मैने धीरे से बोला की मेरा भी काम कर दो ना जानेमन और मैने ट्रे अपने ऊपर पकड़ी औए उसने मेरी पेंट की जिप खोल दी और मेरी अंडरवियर को पटक से निचे कर दिया.

तो वह उसे देख के हेरान हो गयी और वह खुश भी हो रही थी,.. क्योंकि यह लंड उसकी सिल तोड़ने वाला था .. फिर उसने ऊपर निचे करना शुरू कर दिया और एक दो बार उसने निचे जुक के अपने मुह में भर लिया .. में तो सातवे आसमान में था .. थोड़ी देर में उसके हाथ में जड़ गया और उसने मेरा सारा पानी पि लिया और फिर इंटरवल हो गया.. और फिर हम तो ऐसे कर रहे थे की जैसे कुछ हुआ ही ना हो